शेयर बाजार (Stock Market) क्या है? शेयर मार्केट में ट्रेडिंग कैसे करते है जानें

single-image

Stock Market क्या है? और इससे पैसे कैसे कमाते है? What is stock market?

शेयर (Share) का मतलब होता है “हिस्सा” और “बाजार” उस जगह को कहते है जहां हम किसी भी सामान,सेवा की खरीदी – बिक्री करते है। शेयर मार्केट (Stock Market) में किसी कंपनी के शेयर को खरीदने और बेचने का काम किया जाता है। 

स्टॉक मार्केट एक ऐसी जगह है, जहां स्टॉक मार्केट में लिस्टेड कम्पनी (NSE-National Stock Exchange, BSE-Bombay Stock Exchange में रजिस्टर्ड कम्पनीज़) के “हिस्से” (Share) को  ख़रीदा-बेचा जाता है। 

आइए एक उदाहरण के द्वारा समझते है –

उदाहरण – मान लीजिए किसी भी NSE, BSE में रजिस्टर्ड कंपनी ने, मार्केट में एक लाख शेयर जारी किये, शेयर जारी होने के बाद अगर हम उस कंपनी के दस हजार शेयर खरीद लेते है तो, हम उस कंपनी के १०% के मालिक हो जाएंगे, और जिस समय हमने किसी भी कंपनी के शेयर ख़रीदे उस समय शेयर की कीमत एक रुपया हो और कुछ समय बाद अगर हम वह शेयर बेचना चाहते है, उस समय शेयर की कीमत अगर २ रुपये हो जाती है तो हमारा इन्वेस्टमेंट का दुगने (100 प्रतिशत का प्रॉफिट) हो जाएगा और अगर शेयर की कीमत एक रूपये से गिरकर 0.50 पैसा  हो जाती है तो हमारे इन्वेस्टमेंट का आधा (50 प्रतिशत का लॉस) ही रह जाएगा। इस तरह से शेयर मार्केट (Stock Market) में शेयर को खरीदने और बेचने पर प्रॉफिट या लॉस निकलकर आता है।

शेयर बाजार “Share Market” में स्टॉक (Stocks) किसी भी कंपनी में व्यक्ति की हिस्सेदारी दिखता है, और कोई भी व्यक्ति, कभी भी, किसी भी शेयर “Share” को मार्केट में खरीद और बेच सकता है।

“Stock Market” के प्रति लोगों  के मन में नकारात्मक धारणा है, ज्यादातर लोग शेयर मार्केट “Share Market” में इन्वेस्टमेंट करना सट्टा समझते है क्योंकि ज्यादातर ट्रेडर, मार्केट में अपना पैसा सिर्फ गवांते है। लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है की मार्केट में सिर्फ पैसा डूबता है, अगर ट्रेडर को शेयर मार्केट का नॉलेज  है, मार्केट की संपूर्ण जानकारी रखता हो, जो ट्रेडर मार्केट की डेली न्यूज़ (Stock market news) से रूबरू हो, वो ट्रेडर “Trader” मार्केट में अपना पैसे नहीं गंवाता है। अगर मार्केट की अधूरी जानकारी है तो ट्रेड नहीं करना चाहिए क्योंकि अधूरी जानकारी हमेशा खतरनाक सिद्ध होती है

मगर में ये कतई  नहीं कहता की शेयर मार्केट में इन्वेस्ट नहीं करना चाहिए, अगर आप एक ट्रेडर के रूप में शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करना चाहते हो तो, पहले शेयर मार्किट की जानकारी जुटाए और पहले अच्छे से समझे, कैसे ट्रेड किया जाता है? अगर आपको शेयर बाजार की अच्छी जानकारी है तो आप शेयर बाजार से अच्छी  कमाई कर सकते है।

स्टॉक मार्केट (Stock Market)में ट्रेडिंग क्या है? “Trading”  कितने प्रकार की होती है? 

शेयर बाजार में ट्रेडिंग (Trading) शब्द का बहुत अधिक उपयोग किया जाता है, स्टॉक मार्केट (Stock Market) में ट्रेडिंग “Trading”  शब्द बहुत लोकप्रिय है, ट्रेडिंग का हिंदी अर्थ “व्यापार” होता है। जब भी हम किसी वस्तु या सेवा को इस इरादे से खरीदते है की कुछ समय रखकर बेचने पर प्रॉफिट कमाएंगे, इस प्रक्रिया को ट्रेडिंग (Trading) कहा जाता है।

ठीक वैसे ही अगर हम स्टॉक मार्केट से कोई स्टॉक इस इरादे से खरीदते है, की जब भी उस स्टॉक का भाव ऊपर जाएगा और हम उस स्टॉक को बेचकर लाभ कमाएंगे, यही लाभ कमाने के लिए शेयर बाजार में स्टॉक को खरीदने और बेचने की प्रक्रिया को ट्रेडिंग “Trading” कहा जाता है।

ट्रेडिंग “TRADING” कितने प्रकार की होती है | Types of trading

 

  • स्कल्पर ट्रेडिंग “Scalper  Trading” – स्टॉक मार्केट में किसी भी स्टॉक को खरीद कर कुछ मिनटों के अंदर बेच देते है, इस तकनीक को स्कल्पर ट्रेडिंग कहते है। स्कल्पर ट्रेडिंग में शेयर को ज्यादातर 5-10 के अंदर भी ख़रीदा और बेचा जाता है, इस तरह की ट्रेडिंग में प्रॉफिट अच्छा निकलता है लेकिन स्कल्पर ट्रेडिंग में हमें इन्वेस्टमेंट भी ज्यादा रखना होता है, इसमें नुकसान होने  के चान्सेस भी होते है क्योंकि इसमें हमारा इन्वेस्टमेंट ज्यादा होता है।
  • इन्ट्रा-डे ट्रेडिंग “Intra-day Trading” – ऐसा ट्रेड जो एक दिन के अंदर पुरे किये जाते हो उन्हें  Intra-day Trading कहते है। इंट्रा-डे ट्रेडिंग के अंदर स्टॉक को same day के अंदर ही खरीद कर बेचना होता है।
  • स्विंग ट्रेडिंग- “Swing Trading” जब मार्केट में किसी शेयर या स्टॉक को खरीदने के बाद, अगर हम उसे कुछ दिन बाद बेचे, तो जितने समय के लिए कोई स्टॉक होल्ड पर रहता है तो उसे, उस स्टॉक का होल्डिंग पीरियड कहते है। इसका मतलब यह हुआ की, शेयर खरीदने के बाद जितने समय तक हम उसे नहीं बेचते है, वो उस शेयर का होल्डिंग टाइम कहलाता है। और हमारा स्टॉक होल्डिंग पीरियड कुछ दिनों से कुछ सप्ताह तक का हो, या कुछ सप्ताहों से कुछ महीनो तक का हो तो उसे स्विंग ट्रेडिंग “Swing Trading” कहते है।

नोट- अगर आप एक ट्रेडर है, और शेयर मार्केट से पैसा कमाना चाहते है लेकिन आपको शेयर बाज़ार की जानकारी नहीं है जिस कारण से आप ट्रेडिंग करने से डर रहे है या शेयर बाजार में हमेशा लॉस कर रहे तो निश्चिंत रहेक्योंकि हम लेकर आए है अल्गो ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर  “Algo Trading Software” जो की शेयर बाजार में पूर्णरूप से स्वचलित (आटोमेटिक) काम करता है, हमारा सॉफ्टवेयर आटोमेटिक शेयर को खरीदने-बेचने का काम करता है

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may like